CineYatra

CineYatra

For cinema, books and travel related authentic writings... If you want to feature in CineYatra or want to write for it, please drop a mail...
सिनेमा, पुस्तकों और ट्रेवल से जुड़े आलेख सिनेयात्रा पर पढ़ें... यदि आप सिनेयात्रा पर दिखना या इसके लिए लिखना चाहते हैं तो एक मेल भेजें...

[email protected]

रिव्यू-‘हंगामा 2’ में है कचरा अनलिमिटेड

रिव्यू-‘हंगामा 2’ में है कचरा अनलिमिटेड

प्रियदर्शन जैसे काबिल निर्देशक, यूनुस सजावल जैसे हिट लेखक, वीनस जैसा बड़ा बैनर, मलयालम की एक सफल फिल्म का रीमेक, ऊपर से ‘हंगामा’ का ब्रांड-सब चंगा ही तो है। अब इस पर ‘हंगामा 2’ नाम से कोई फिल्म बनेगी तो वह भी चंगी ही होगी, लोगों का खूब मनोरंजन करेगी, लोग उस तरह से हंसते-हंसते पागल भी हो सकते हैं जैसे प्रियन सर की ही ‘हेरा फेरी’, ‘भागम भाग’, ‘हंगामा’, ‘हलचल’, ‘चुप चुप के’, ‘दे दना दन’ वगैरह के समय हुए थे। लेकिन क्या सचमुच ऐसा हुआ...? ऐसा है...? ऐसा होगा...? जवाब है-नहीं, नहीं, नहीं...! कपूर के बेटे आकाश की शादी बजाज की लड़की से होने वाली है कि तभी एक लड़की वाणी अपनी बेटी को लेकर आ धमकती है और कहती है कि आकाश उसकी इस बेटी का बाप है। उधर अधेड़ वकील तिवारी को शक है कि उसकी जवान बीवी अंजलि का आकाश के साथ चक्कर है। क्या आकाश-वाणी के बीच कुछ था? या क्या आकाश-अंजलि के बीच कुछ है? कन्फ्यूज़न आखिर है कहां? बहुत सारे टेढ़े-बांके किरदारों को बहुत सारी कन्फ्यूज़न भरी सिचुएशंस में डालना और अंत में सबको एक जगह ले जाकर हंगामा करना प्रियदर्शन का पुराना स्टाइल रहा है और खुद को दोहराने के बावजूद वह हमें बेहिसाब हंसाते भी रहे हैं। लेकिन इस बार वह और उनकी टीम बुरी तरह से चूकी है और अपने ही बिखेरे कचरे पर से फिसलती हुई बोरियत के गड्ढे में जा गिरी है।सबसे पहला कसूर तो उस कहानी का मान सकते हैं जो 27 बरस पहले आई एक मलयालम फिल्म से ली गई। ऐसी कहानियों को सिनेमा में आउटडेटेड कहा जाता है। पता नहीं प्रियन और वीनस वाले इस थकी-मरी कहानी पर राज़ी कैसे हो गए। दूसरा कसूर पटकथा लेखक यूनुस सजावल का रहा है जिन्होंने स्क्रिप्ट के नाम पर इस बार कचरा ही बिखेरा है जबकि यह साहब डेविड धवन और रोहित शैट्टी की फिल्मों में ढेरों ठहाके परोस चुके हैं। इस बार यूनुस न तो कायदे से घटनाएं रच पाए और न ही किरदार। हिमाचल में रह रहे दो पंजाबी परिवार और पंजाबियत की खुशबू तक नहीं? और हां, यूनुस साहब, इस फिल्म में आपके लिखे किरदार जो बातें जिस तरह से बोल रहे हैं न, उसे हम दर्शकों के घरों में बदतमीज़ी और बेहूदगी माना जाता है। रही-सही कसर मनीषा कोरडे और अनुकल्प गोस्वामी नाम के संवाद लेखकों ने पूरी कर दी। जहां सीधे-सीधे बात की जानी चाहिए थी, वहां भी डायलॉग ठूंस दिए। ठूंसो... जब हर कोई कचरा बिखेरने पर आमादा है तो आप लोग भी बतौर निर्देशक प्रियदर्शन को हिन्दी में कुछ ढंग का दिए हुए एक दशक हो चला है। उनका स्टाइल देखकर लगता है कि वह भी पुरानी पीढ़ी के उन निर्देशकों की तरह अब थक चुके हैं जिन्होंने खुद को वक्त के साथ नहीं बदला और जिनकी धार भोथरी होती चली गई। एक काबिल निर्देशक का ऐसा हश्र दुखद है। यह फिल्म देख कर लगता है कि उन्होंने कुछ किया ही नहीं। जिसने जो चाहा, जैसे चाहा, किया, उन्होंने न किसी को रोका, न दखल दिया। यहां तक कि वकील तिवारी ने बार में जब दो व्हिस्की विद् सोडा मांगी और लड़के ने उन्हें नीट व्हिस्की दे दी तब भी प्रियन सर सोते रहे। जी हां, इस फिल्म के कचरेपन का सबसे बड़ा दोष आप ही का है प्रियन सर! और अब एक्टिंग की बात। आकाश बने मीज़ान जाफरी बोलते कम और चिल्लाते-झल्लाते ज़्यादा रहे। भईए, ऐसी ही एक्टिंग करनी है तो कोई और धंधा पकड़ लो, क्यों बाप (जावेद जाफरी) दादा (जगदीप) का नाम खराब कर रहे हो। वाणी के किरदार में आई प्रणिता सुभाष दक्षिण की बड़ी अभिनेत्री हैं। बड़े नाम वालों के झांसे में आकर वह हिन्दी में इस कदर घटिया फिल्म से अपनी शुरूआत करेंगी, यह खुद उन्होंने भी न सोचा होगा। शिल्पा शैट्टी बस ठीक-ठाक ही लगीं। वैसे भी वह कभी उम्दा एक्ट्रैस नहीं मानी गईं। आकाश के भाई के रोल में रमन त्रिखा जैसे नॉन-एक्टर को लंबे समय बाद देख कर फिर से कोफ्त हुई। आकाश की बहन बनी अदाकारा फिल्म में कर क्या रही थी? वैसे, यह वाली बात तो फिल्म के लगभग हर दूसरे किरदार के बारे में कही जा सकती है। खासतौर से उन चार बच्चों के बारे में भी जिन्हें ज़बर्दस्ती फिल्म में डाल कर उनसे बाल-मज़दूरी करवाई गई। और यार, यह आज के ज़माने में चार बच्चे कौन पैदा करता है? आशुतोष राणा, मनोज जोशी, परेश रावल, टिक्कू तल्सानिया, जॉनी लीवर, राजपाल यादव जैसे तजुर्बेकार कलाकारों तक की मौजूदगी जब महसूस न हो तो समझिए कि लेखकों ने मिल कर घास ही खोदी है। फिल्म का गीत-संगीत बुरी तरह से सड़ांध मारता है। इस फिल्म के नाम के साथ ‘कन्फ्यूज़न अनलिमिटेड’ का पुछल्ला बांधा गया था। लेकिन इसे देखते हुए यह असल में ‘कचरा अनलिमिटेड’ लगता है। और हां, डिज़्नी-हॉटस्टार पर आई इस फिल्म में एडिटर की भूमिका लापता है। लगता है उनके हाथ से कैंची छीन कर उन्हीं पर तान कर कहा गया कि जो बना है, उसे जोड़ दो, कुछ काटना मत। सो, ढाई घंटे की यातना बनी है, झेल लीजिए।

रिव्यू-मंज़िल तक पहुंचाती ‘मिमी’

रिव्यू-मंज़िल तक पहुंचाती ‘मिमी’

अमेरिका से आया एक जोड़ा राजस्थान की लड़की मिमी को 20 लाख रुपए में सरोगेट मदर बनने पर राज़ी करता है। यानी अब मिमी इस जोड़े के बच्चे को 9 महीने तक अपनी कोख में रखेगी और बच्चा पैदा करके उन्हें सौंप देगी। लेकिन अचानक यह जोड़ा लापता हो जाता है। अब मिमी अपने घरवालों को, समाज को क्या जवाब देगी...? बच्चा हुआ, मिमी उसे पालने लगी। कुछ साल बाद वे गोरे आ धमके और उससे अपना बच्चा मांगने लगे। अब मिमी क्या करेगी...? किराए की कोख यानी सरोगेसी हमारे आसपास सुनाई-दिखाई भले न पड़ती हो लेकिन मौजूद अवश्य है। विदेशों से आकर भारत में सरोगेसी के ज़रिए बच्चे जनने की एक पूरी इंडस्ट्री चल रही है अपने यहां। सिनेमा ने भी गाहे-बगाहे इस विषय को छुआ है लेकिन हिन्दी में ऐसा कोई उल्लेखनीय प्रयास नहीं हो पाया है। दिक्कत दरअसल ‘टैबू’ समझे जाने वाले इस विषय के साथ ही है। इस पर गंभीरता से फिल्म बनाओ तो वह आर्ट-हाऊस के पाले में जा खड़ी होती है और मसाले में लपेटो तो वह उथली रह जाती है। लेकिन इधर कुछ समय से हिन्दी वालों ने ऐसे विषयों को हास्य और पारिवारिक ड्रामे के साथ परोसना शुरू किया है और यही कारण है कि ‘विकी डोनर’, ‘शुभ मंगल सावधान’ ‘बधाई हो’, ‘लुका छुपी’ जैसी फिल्में बन कर आ सकी हैं। यह फिल्म भी इसी राह पर चलती हैं। 2011 में आई (और राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार पा चुकी) समृद्धि पौड़े की लिखी व बनाई मराठी फिल्म ‘मला आई व्हायचय’ (मुझे मां बनना है) के इस रीमेक में रोहन शंकर और लक्ष्मण उटेकर ने कहानी को 2013 और उसके बाद के राजस्थान में सैट किया है। स्मृद्धि की कहानी तो उम्दा है ही, रोहन व लक्ष्मण ने उसे हिन्दी वालों के मिज़ाज के मुताबिक कायदे से फैलाया है। मूल मराठी फिल्म एक सच्चे वाकये से प्रेरित इमोशनल व कोर्ट रूम ड्रामे वाली गंभीर फिल्म थी।  हिन्दी में इसे हास्य का पुट दिया गया है ताकि अईंया-बईंया किस्म का कचरा खाने के आदी हो चुके हिन्दी के दर्शकों को लुभाया जा सके। लेकिन इस फेर में फिल्म हल्की भी हुई है और कहीं-कहीं कमज़ोर भी। स्क्रिप्ट ने बहुत जगह तर्क और विश्वसनीयता का साथ छोड़ा पर चूंकि कॉमिक फ्लेवर वाली फिल्मों में यह सब चल जाता है, सो यह ज़्यादा अखरता नहीं है। ‘लुका छुपी’ वाले निर्देशक लक्ष्मण उटेकर ने इस फिल्म में भी अपनी पिछली फिल्म का-सा ही रंग-ढंग रखा है। बस फिल्म इस बार मथुरा की बजाय राजस्थान में है। उस फिल्म की तरह इसमें भी कृति सैनन व पंकज त्रिपाठी की लगातार मौजूदगी और वैसे-से ही कॉमिक तेवर साफ चुगली खाते हैं कि लेखक-निर्देशक की जोड़ी के पास नया कुछ देने का अभाव है। फिल्म के लिए एक कायदे का अर्थपूर्ण नाम तक तो तलाश नहीं पाए ये लोगकृति ने जम कर काम किया है, शायद अपने अब तक के कैरियर का सर्वश्रेष्ठ। पंकज त्रिपाठी तो हरा धनिया हो ही चुके हैं। जहां होते हैं, रंगत व स्वाद बढ़ा देते हैं। सई तम्हाणकर, मनोज पाहवा, सुप्रिया पाठक कपूर ने भी इनका खूब साथ निभाया। थोड़ी देर को आए पंकज झा, आत्मजा पांडेय, नूतन सूर्या, अमरदीप झा, शेख इशाक, जया भट्टाचार्य, नरोत्तम बैन, ज्ञान प्रकाश आदि भी जंचे। अमेरिकी जोड़े के रूप में ऐडन व्हायटॉक व एवलिन एडवर्ड्स ने उम्दा काम किया। नेटफ्लिक्स पर आई फिल्म के कुछ संवाद बढ़िया हैं। स्थानीय बोली से रंगत जमती है। अमिताभ भट्टाचार्य के गीतों व ए.आर. रहमान के संगीत ने फिल्म को कसा और निखारा ही है। गीतों की कोरियोग्राफी भी उल्लेखनीय है। आकाश अग्रवाल के कैमरे ने किरदारों के साथ-साथ राजस्थान की रंगत को भी बखूबी पकड़ा। ड्रोन शॉट्स ज़रा कम होते तो बेहतर था। इस किस्म की फिल्में मुख्यधारा के सिनेमा में बन रही हैं, हिन्दी वालों के लिए यही बड़ी बात है। एक वर्जित समझे जाने वाले विषय पर हौले से ही सही, बात तो हुई और चंद ही सही, सवाल तो उठाए गए। और अंत में फिल्म कब इमोशनल कर जाती है, पता ही नहीं चलता। मिमी को अमेरिकी जोड़े से मिलवाने वाले ड्राईवर (पंकज त्रिपाठी) से एक दिन मिमी पूछती है कि वे लोग भाग गए, तू क्यों नहीं भागा? वह जवाब देता है-ड्राईवर हूं न, सवारी को उसकी मंज़िल तक पहुंचाए बिना नहीं भाग सकता। यह फिल्म भी ऐसी ही है। यह न सिर्फ अपनी तय की हुई डगर पर चलती है बल्कि बल्कि दर्शकों को मनोरंजन की सवारी कराते हुए संतुष्टि की मंज़िल तक भी ले जाती है। इसे देखने के लिए इतनी वजह बहुत है।

ओल्ड रिव्यू-‘तीन’ में और तेरह में भी

ओल्ड रिव्यू-‘तीन’ में और तेरह में भी

कोरियाई फिल्में अब हिन्दी वालों को ज्यादा भा रही हैं। 2013 में आई दक्षिण कोरियाई फिल्म ‘मोंटाज’ का रीमेक ‘तीन’ एक सस्पैंस फिल्म है। एक बूढ़ा आठ साल पहले किडनैप हुई और फिर मारी गई अपनी नातिन के किडनैपर की खोज में अभी भी पागलों की तरह लगा हुआ है जबकि पुलिस इस केस से पल्ला झाड़ चुकी है और इस केस को देख रहा अफसर पुलिस की नौकरी छोड़ अब चर्च में पादरी बन चुका है। लेकिन नाना का कहना है कि वह इंसाफ मिलने तक चुप नहीं बैठेगा। अचानक शहर में एक और बच्चा किडनैप होता है। बिल्कुल उसी स्टाइल में और उसके बाद के तमाम वाकये भी वैसे ही घटते हैं जो आठ साल पहले हो रहे थे। आखिर राज़ खुलता है और सच सामने आ ही जाता है एक सस्पैंस फिल्म में आमतौर पर रफ्तार, रोमांच, तेज़ी से बदलती-घटती घटनाओं का बोलबाला होता है। लेकिन यह फिल्म कुछ हटके है। यहां कोलकाता शहर अपनी धीमी गति के साथ मौजूद है। मुख्य पात्र एक सुस्त रफ्तार बूढ़ा है जो अपने खटारा स्कूटर को ज़बर्दस्ती घसीटता रहता है। फिल्म की स्पीड भी धीमी है। बल्कि कई जगह तो इतनी ज़्यादा धीमी है कि उकताहट होने लगती है। खैर, इन सबसे भी आप एडजस्ट करलें मगर सस्पैंस फिल्म में जब रहस्य खुलता है तो एक झटका-सा लगता है। यहां वैसा भी नहीं हो पाया और ‘शॉक-वैल्यू’ की यह कमी इस फिल्म को एक करारा झटका देने के लिए काफी है। पर्दे पर सच सामने आने से पहले ही दर्शक को सच्चाई पता चल जाए तो सस्पैंस फिल्म देखने का सारा मज़ा ही खत्म हो जाता है और यहां यही हुआ है। अमिताभ बच्चन अपने पूरे कद के साथ मौजूद हैं। वह बताते हैं कि उनकी मौजूदगी कैसे दूसरों के लिए अभिनय का सबक बन जाती होगी। नवाजुद्दीन सिद्दिकी और विद्या बालन के किरदार छोटे हैं, कमज़ोर हैं और पुख्ता स्क्रिप्ट के अभाव में ये दोनों ही पूरी मेहनत करने के बावजूद अपेक्षित असर छोड़ पाने में नाकाम रहे हैं। रिभु दासगुप्ता का निर्देशन अच्छा है। कोलकाता को एक किरदार बनाने की उनकी कोशिश रंग लाती है। कहानी को एक अलहदा ढंग से कहने की उनकी शैली भी लुभाती है। लेकिन स्क्रिप्ट की कमज़ोरी और सुस्त गति फिल्म को ऊपर नहीं उठने देती। कई जगह तो ऐसा भी लगता है कि आप विद्या बालन वाली ‘कहानी’ से बच गए माल को एक अलग किस्म के छौंक के साथ देख रहे हैं। कुछ अलग हट कर देखना चाहें, अमिताभ की उम्दा एक्टिंग को सराहना चाहें, तो यह फिल्म देखें।...

वेब रिव्यू-रोमांच की आंच में तप कर निकला ‘फैमिली मैन 2’

वेब रिव्यू-रोमांच की आंच में तप कर निकला ‘फैमिली मैन 2’

एक्शन और रोमांच से भरी एक ऐसी वेब-सीरिज़ जिसका मुख्य नायक एक सीक्रेट एजेंट हो और देश को बचाने के लिए जान हथेली पर लिए घूमता हो, उस सीरिज़ का नाम ‘फैमिली मैन’...? किसने सोचा होगा यह नाम? और क्यों? लेकिन इस सीरिज़ को देख चुके लोग जानते हैं कि श्रीकांत तिवारी नाम का यह नायक असल में कितना मजबूर फैमिली-मैन है जो एक तरफ अपने फर्ज़ और दूसरी तरफ अपनी फैमिली के प्रति ज़िम्मेदारियों के बीच इस कदर फंसा हुआ है कि उस पर तरस आता है। उसकी पत्नी उससे खुश नहीं है, बेटी हाथ से निकली जा रही है, लेकिन वह है कि देश और ड्यूटी के प्रति अपने जुनून में कमी नहीं आने देता। यह सीरिज़ दरअसल ऐसे ही जुनूनियों की कहानी है जो सामने न आकर हर दिन, हर पल देश के लिए कहीं खड़े हैं, किसी न किसी रूप में। एक जगह एजेंट जे.के. कहता भी है-‘करते नेता हैं और मरते हम हैं।’ तो श्रीकांत का जवाब होता है-‘हम किसी नेता के लिए नहीं, उसके पद और उस पद की प्रतिष्ठा के लिए अपनी जान दांव पर लगाते हैं।’ ‘फैमिली मैन’ के पिछले सीज़न में अपने परिवार के उलाहने सुनता रहा श्रीकांत अब एक प्राइवेट नौकरी कर रहा है और अपने से आधी उम्र के बॉस के ताने सुन रहा है। अब उसके पास परिवार को देने के लिए वक्त और पैसा, दोनों हैं लेकिन उसकी फैमिली अब भी उससे खुश नहीं है। खुश तो अंदर से वह भी नहीं है। और एक दिन वह लौट आता है-उसी रोमांच की दुनिया में जहां उसे आनंद मिलता है, संतुष्टि मिलती है। मगर उसे क्या पता था कि उसके इस रोमांच भरे काम की आंच उसके घर के भीतर जा पहुंचेगी। लेकिन देश को दुश्मनों से बचाने का उसका जज़्बा कम नहीं होता और आखिर वह जीतता भी है-अपनी नज़रों में और अपनों की नज़रों में भी। राज, डी.के., सुपर्ण वर्मा, सुमन, मनोज की टीम ने इस सीरिज़ की कहानी, स्क्रिप्ट, संवादों आदि को लिखने और किरदारों को खड़ा करने में जो मेहनत की है, वह पर्दे पर साफ झलकती है। अगर बहुत ज़ोर से दिमाग न झटकें तो आप इसकी कहानी में कोई बड़ी चूक नहीं निकाल सकते। इस किस्म की एडवेंचर्स, थ्रिलर कहानियों में नायकों-खलनायकों के बीच लगातार चूहे-बिल्ली का खेल चलना और अंत में बिल्ली का चूहे पर जीत हासिल करने का जो फार्मूला विकसित हो चुका है, यह कहानी भी उस लीक से नहीं हटती और दो-एक जगह दो-एक पल को सुस्ता कर फिर रफ्तार पकड़ लेती है। कहीं कुछ अटकाव होता भी है तो चैल्लम सर जैसा कोई किरदार आकर उसे संभाल लेता है। लगातार दौड़ती पटकथा के बीच रोमांच, रोमांस, हंसी, बेबसी के संवाद आकर अपना असर छोड़ते जाते हैं। बड़ी बात यह भी कि इस कहानी में किरदार जहां के हैं, वहीं की भाषा में बात कर रहे हैं। सिनेमा को रिएलिस्टिक बनाने की दिशा में यह एक बड़ा और सार्थक कदम है जिसका स्वागत होना चाहिए। दूरियां कम करना भी तो सिनेमा का ही एक काम है। लिखने वालों ने तो जम कर लिखा ही, राज, डी.के और सुपर्ण वर्मा ने इसे कस कर निर्देशित भी किया है। नौ एपिसोड और निर्देशक की पकड़ कहीं भी ढीली न पड़े तो उन्हें सिर्फ बधाई ही नहीं, तारीफें और पुरस्कार भी मिलने चाहिएं। एक सराहनीय काम इस कहानी के लिए किस्म-किस्म के किरदार गढ़ने और उनके लिए उतने ही किस्म के कलाकारों का चयन करने का भी हुआ। मुकेश छाबड़ा ने किरदारों से मेल खाते और वैसी ही पृष्ठभूमि से कलाकारों को चुन कर इस कहानी को जो यथार्थवादी लुक दिया है, उससे यह सीरिज़ अन्य निर्माताओं के लिए एक बड़ी प्रेरणा बनने जा रही है। लोकेशन, कैमरा, गीत-संगीत ने अगर इस कहानी को संवारा है तो सुमित कोटियान की चुस्त एडिटिंग...

रिव्यू-खोखली फिल्म है ‘शादीस्थान’

रिव्यू-खोखली फिल्म है ‘शादीस्थान’

मुंबई से अजमेर एक शादी में जा रहे परिवार की फ्लाइट छूट गई तो मजबूरन उन्हें एक म्यूज़िक बैंड के साथ उनकी बस में जाना पड़ा। यह परिवार अपनी इकलौती 18 बरस की लड़की की जबरन शादी करने पर तुला है जबकि लड़की राज़ी नहीं है। उधर इस बैंड की लड़की आज़ाद ख्याल है, सिगरेट-शराब पीती है, अपनी मर्ज़ी से जीती है। वह लड़की की मां को समझाती है कि इतनी जल्दी क्या है बेटी को खूंटे से बांधने की। मां-बाप आखिर मान भी जाते हैं, लेकिन कैसे? अपने कलेवर में यह फिल्म एक ‘रोड-मूवी’ होने का अहसास देती है। एक ऐसी फिल्म जिसमें एक सफर होता है, कुछ हमसफर होते हैं, उनकी एक सोच और कुछ हालात होते हैं, रास्ते में कुछ ऐसी घटनाएं घटती हैं, कुछ ऐसी बातें होती हैं जिससे उनकी सोच बदलती है और इस बदली हुई सोच से वे अपने हालात बदलने लगते हैं। ‘जब वी मैट’, ‘कारवां’, ‘करीब करीब सिंगल’, ‘पीकू’, ‘ज़िंदगी ना मिलेगी दोबारा’, ‘चलो दिल्ली’ जैसी फिल्मों को आप इस खांचे में रख सकते हैं। लेकिन यह भी सच है कि इस किस्म की फिल्म बनाना आसान नहीं होता। एक कसी हुई कहानी के साथ-साथ एक सुलझी हुई सोच का होना तो ऐसी फिल्मों में ज़रूरी होता ही है, लगातार घटती दिलचस्प घटनाएं और लगातार मिलते रोचक किरदार ही इस तरह की फिल्म को खड़ा कर पाते हैं।मुंबई में रह रहे परिवार को 18 की उम्र में इकलौती बेटी ब्याहनी ही क्यों हैं, फिल्म यह नहीं बता पाती। फिल्म बार-बार ‘समाज क्या कहेगा’, ‘परिवार वाले क्या कहेंगे’ कहती है। लेकिन इस बारे में कुछ पुख्ता दिखा नहीं पाती। दरअसल इस फिल्म की दिक्कत ही यही है कि यह ‘कहती’ तो बहुत कुछ है लेकिन उस ‘कहने’ के समर्थन में कुछ भी ‘दिखा’ नहीं पाती। कमी लेखन के स्तर पर ज़्यादा है। लेखक अपने मन की सोच को कायदे से कागज़ पर उतार ही नहीं पाया। अपने घर-परिवार को ही अपना सब कुछ मान चुकी एक औरत को म्यूज़िक बैंड वाली लड़की चंद घंटों में सिर्फ ‘समझा-समझा’ कर बदलना चाहती है और यह काम भी वह कायदे से नहीं कर पा रही है। सिवाय एक संवाद ‘हम जैसी औरतें लड़ती हैं ताकि आप जैसी औरतों को अपनी दुनिया में लड़ाई न लड़नी पड़े’ को छोड़ कर यह फिल्म असल में खोखले नारीवाद को परोसने की एक उतनी ही खोखली कोशिश भर लगती है।  और यह फिल्म इन दोनों ही मोर्चों पर बुरी तरह से नाकाम रही है। राज सिंह चौधरी लेखक के साथ-साथ बतौर निर्देशक भी नाकाम रहे हैं। वह न तो घटनाएं रोचक बना पाए, न ही किरदार। मुंबई से अजमेर के रास्ते में टाइगर साहब (के.के. मैनन) आखिर इन्हें मिले ही क्यों? और उसके बाद ये लोग छलांग मार कर एक ढाबे के बाहर कैसे सोते हुए पाए गए? अजमेर में शादी वाले घर के हालात का भी निर्देशक कोई इस्तेमाल अपनी कहानी को जमाने में नहीं कर सके। और यह ‘शादीस्थान’ नाम का क्या मतलब है भाई, ज़रा यह भी समझा देते। अंत में पापा जब बदले तो उस बदलने के पीछे के कारण भी फिल्म नहीं दिखा पाती। कुल मिला कर डिज़्नी-हॉटस्टार पर आई यह फिल्म 93 मिनट की होने के बावजूद अगर बहुत लंबी, बोरिंग और चलताऊ लगती है तो सारा कसूर बतौर कप्तान इसके डायरेक्टर का ही है, कीर्ति कुल्हारी जैसे उन कलाकारों का नहीं जिन्होंने अपने काम को ईमानदारी से अंजाम दिया।

ओल्ड रिव्यू-‘अंकुर अरोड़ा मर्डर केस’-सीरियस है मगर बोर नहीं

ओल्ड रिव्यू-‘अंकुर अरोड़ा मर्डर केस’-सीरियस है मगर बोर नहीं

डॉक्टरी सिर्फ एक पेशा ही नहीं बिजनेस भी है...।’ विक्रम भट्ट के बैनर से आई इस फिल्म में डॉक्टर अस्थाना बने के.के. मैनन का यह संवाद न सिर्फ इस फिल्म की बल्कि दुनिया के सबसे पवित्र माने जाने वाले डॉक्टरी के पेशे की सच्चाई को भी सामने लाता है। अस्पतालों में इंसानी लापरवाही से किसी मरीज की मौत होना कोई नई और अनोखी बात नहीं है। अक्सर ऐसे मामले अदालतों तक भी पहुंचते हैं लेकिन आमतौर पर हो कुछ नहीं पाता। लेकिन इस फिल्म में सच की जीत होती है और गुनहगार को सज़ा भी मिलती है।एक बच्चे अंकुर अरोड़ा का ऑपरेशन होना है लेकिन डॉक्टर उसका पेट साफ करना भूल जाता है। उसकी इस लापरवाही के चलते बच्चा पहले कोमा में चला जाता है और फिर मौत के मुंह में। डॉक्टर अपनी गलती को छुपाने में लग जाता है और उसका एक जूनियर सच का साथ देने में।इस किस्म की रूखी कहानी जिसमें मनोरंजन, मसाले, मन को भाने वाली कोई चीज़ न हो, उसे लेकर बिना कोई तड़का लगाए उस पर फिल्म बनाना दुस्साहस का काम है और डायरेक्टर सुहैल तातारी की हिम्मत की दाद देनी होगी कि उन्होंने इस रूखे विषय में बिना कोई गैरज़रूरी मसाला डाले इसे पूरी ईमानदारी के साथ ट्रीट किया है। अब यह अलग बात है कि उनकी यह ईमानदारी और दुस्साहस उन्हें टिकट-खिड़की पर भारी पड़ने वाला है। फिल्म का विषय भले ही ड्राई हो और उसका ट्रीटमेंट भी लेकिन यह फिल्म सीरियस तो है मगर बोर नहीं करती। मेडिकल प्रोफेशन की कमियों और खामियों को सामने लाने की डायरेक्टर की कोशिश पर उंगली नहीं उठाई जा सकती। साथ ही उन्होंने वकालत के पेशे की गंदगी को भी हल्के से छुआ है। हालांकि अंकुर की मौत के बाद जो केस बनता है उसे जिस जल्दबाज़ी में निबटाया गया है वह इस फिल्म को हल्का कर देता है। और जिस तरह से अंकुर का केस लड़ रही वकील की सोच बदलती है, वह भी काफी फिल्मी-सा लगा है। सुहैल पहले भी ‘समर 2007’ में एक गंभीर विषय को उठा चुके हैं लेकिन तब भी और अब भी वह बहुत ज़्यादा हार्ड-हिटिंग नहीं हो पाए जबकि विषय की मांग यही होती है कि जब आप चोट करें तो वह इतने ज़ोर से हो कि देखने वाला हिल जाए और यहीं आकर यह फिल्म कमज़ोर पड़ जाती है। वकील बनीं पाओली डाम और डॉक्टर बने के.के. मैनन की एक्टिंग में गहरा असर दिखता है। अर्जुन माथुर और टिस्का चोपड़ा का काम भी अच्छा कहा जा सकता है। विशाखा सिंह तो ज़्यादा समय रोती ही रहीं। बाकी लोग साधारण रहे। बैकग्राउंड में बजता एक गाना ही थोड़ा ठीक लगता है। अगर आप को गंभीर किस्म की फिल्में पसंद हैं, अगर सच्ची घटनाओं पर बनी फिल्में आपको भाती हैं तो यह फिल्म आपको निराश नहीं करेगी। हां, मसाला मनोरंजन की इच्छा लेकर इसे देखने मत जाइएगा।

रिव्यू-हिम्मत, लगन और जुनून की कहानी है ‘साइना’

रिव्यू-हिम्मत, लगन और जुनून की कहानी है ‘साइना’

किसी खिलाड़ी के नाम में अगर कई फर्स्ट जुड़े हों और वो खिलाड़ी महिला भी हो तो उस पर बायोपिक बनाना सिनेमा की ही नहीं, देश की भी ज़रूरत होती है। भारत में सबसे ज़्यादा आउटडोर खेला जाने वाला इनडोर गेम है बैडमिंटन। इससे भी ज़्यादा हैरानी की बात यह है कि एक अरब होने के पहले तक देश में इस लोकप्रिय खेल में सिर्फ एक सितारा था-प्रकाश पादुकोण, बाद में पुलेला गोपीचंद, बस। अमोल गुप्ते की यह फिल्म इसलिए भी ज़रूरी थी कि हाथ में शटल उठा चुके तमाम युवा और बच्चे यह जान सकें कि- “शहज़ोर अपने ज़ोर में गिरता है मिस्ल ए बर्क, वो तिफ़्ल क्या गिरेगा जो घुटनों के बल चले“साइना नेहवाल एक दिन में नहीं बनती। फिल्म दोहराती है कि जब मध्यमवर्गीय परिवार के बच्चे नंबर वन बनते हैं तो नींव का पत्थर बनते हैं उनके मां-बाप, जो पहले से ही उसी फील्ड से जुड़े होते हैं मगर दिखाई नहीं देते। दिखाई देते हैं सिर्फ उनके कोच चाहे वो फोगाट सिस्टर्स हों, लेंडर पेस या साइना नेहवाल। इस फिल्म की कहानी पूरी सच्चाई से कहती है कि तमाम उतार-चढ़ाव के साथ जब साइना को ’फिनिश्ड ऑफ’ कहा जाने लगा था तब उन्होंने कैसे न सिर्फ दमदार वापसी की बल्कि अपने बचपन का सपना-वर्ल्ड नंबर एक को भी पूरा किया।यह फिल्म खिलाड़ियों के जीवन के एक और एंगल को दिखाती है कि एक खिलाड़ी की लव लाइफ भी हो सकती है। जब कोच साइना को समझाते हैं कि चैंपियन बनने के लिए यह मायने नहीं रखता कि हम क्या करते हैं बल्कि यह मायने रखता है कि हम क्या छोड़ते हैं तो इस डायलॉग के जवाब में साइना के ये सवाल हमें सोचने पर मजबूर करते हैं कि क्या मेरी लव लाइफ नहीं हो सकती? सचिन को कोई क्यों नहीं कहता कि उसने 22 साल में शादी क्यों की? क्योंकि मैं लड़की हूं?जब साइना की कामयाबी को ग्लैमर वर्ल्ड भुनाने की कोशिश करता है तब साइना को अपने कोच के गुस्से का शिकार होना पड़ता है। यह कॉनफ्लिक्ट न सिर्फ खिलाड़ी और कोच के रिश्तों का है बल्कि दर्शकों के दिल और दिमाग पर भी उभरता है। हमारे देश में खेलों में अपार संभावनाएं हैं पर हमारे खिलाड़ी अक्सर फिटनेस की समस्याओं से जूझते नज़र आते हैं। इतने पर भी चीन, जापान, कोरिया जैसे देशों के मजबूत खिलाड़ियों को अपने स्मैश के दम पर धू-धू कर देने वाली साइना के स्टेमिना और फूड प्रैक्टिस के लिए भी फिल्म देखी जानी चाहिए। हालांकि फिल्म अच्छी है पर और अच्छी बन सकती थी क्योंकि स्टार कितना भी बड़ा हो, बायोपिक एक ही बार बनाई जाती है। लेखक ने बड़ी समझदारी से पी.वी. सिंधु विवाद को फिल्म से दूर रखा है। परिणीति चोपड़ा ने अपनी भूमिका के साथ न्याय किया है। हालांकि यह भी महसूस होता है कि इस किरदार के लिए उन्हें थोड़ा और काम करना चाहिए था। मानव कौल इस फिल्म से एक बार फिर खुद को शानदार अभिनेता के तौर पर स्थापित करते हैं। मां के रूप में मेघना मलिक जिनके हिसाब से खेल में नंबर दो कुछ होता ही नहीं, की आंखों की चमक पूरी फिल्म देखने के लिए बैठाती है। ईशान नकवी कश्यप के रोल में नहीं जमे। लिटिल साइना नायशा कौर भटोय ने सचमुच बहुत अच्छा काम किया है। फिल्म में अनावश्यक कुछ भी नहीं है-न स्टारडम, न गाने, न लाउड सींस और न ही देशभक्ति। डायरेक्टर अमोल गुप्ते का काम काबिल-ए-तारीफ रहा है। बैडमिंटन के वो रोमांचक पल जिन्हें आप दोबारा से जीना चाहेंगे से सजी है फ़िल्म साइना। खेलप्रेमियों, सिनेप्रेमियों और बेटियों को प्रेम करने वालों को भी यह देखनी चाहिए। फ़िल्म इसी 26 मार्च को रिलीज़ की गई थी। फिलहाल यह अमेज़न पर उपलब्ध है।

रिव्यू-अपने समाज का जंगलराज दिखाती ‘शेरनी’

रिव्यू-अपने समाज का जंगलराज दिखाती ‘शेरनी’

इलाके में नई वन-अधिकारी आई है, विद्या विन्सेंट। जंगल की और जंगली जानवरों की देखभाल करना उसका काम है। वह अपना काम करना भी चाहती है-पूरी ईमानदारी से, निष्ठा से। लेकिन आड़े आ जाता है सिस्टम। जंगल में एक शेरनी आदमखोर हो चुकी है। गांव वालों को मार रही है। लोग इस शेरनी से मुक्ति चाहते हैं। विद्या चाहती है कि शेरनी भी बच जाए और लोग भी। लेकिन आड़े आ जाता है सिस्टम। अपनी पिछली फिल्म ‘न्यूटन’ में निर्देशक अमित मसुरकर हमें एक नक्सलप्रभावित गांव में वोट डलवाने वाले ईमानदार अधिकारी से मिलवा चुके हैं। इस बार वह हमें एक उतनी ही ईमानदार फॉरेस्ट अफसर से मिलवाते हैं। विद्या भी न्यूटन की तरह अपना फर्ज़ निभाना चाहती है चाहे उसे अपने उच्चाधिकारियों की नाराज़गी ही क्यों न झेलनी पड़े। फिल्म दिखाती है कि हमारा ‘सिस्टम’ इस तरह का बन चुका है जिसमें न तो कोई कुछ अलग हट कर करना चाहता है और न ही किसी को करने देना चाहता है। फिल्म इस बात को भी अंडरलाइन करती है कि सिस्टम में शक्ति का प्रवाह हमेशा ऊपर से नीचे की तरफ ही होता है। ऊंची कुर्सी पर बैठा शख्स अगर राज़ी न हो तो नीचे वाले चाह कर भी कुछ नहीं कर सकते। विद्या के बहाने से हम असल में अपने सिस्टम के उन लोगों से मिलते हैं जो बदलाव लाना चाहते हैं लेकिन ला नहीं पाते क्योंकि ‘समाज’ असल में ‘जंगलराज’ में बदल चुका है। आदमखोर शेरनी को पकड़ना जंगल के अधिकारियों के लिए ड्यूटी है। लेकिन स्थानीय नेताओं के लिए वह एक चुनावी मुद्दा बन चुकी है। गांव वालों के लिए वह एक दहशत है तो वहीं मीडिया के लिए सिर्फ एक सनसनी। एक शिकारी के लिए वह रिकॉर्ड बनाने का बहाना है तो वहीं बड़े अफसरों के लिए सिर्फ एक मुसीबत, जिससे वह जल्द छुटकारा पा लेना चाहते हैं। इस फिल्म को देखते हुए ‘पीपली लाइव’ की भी याद आती है। वहां का नत्था और यहां की आदमखोर शेरनी असल में हमें अपने समाज के नंगे हो चुके चेहरे ही दिखाते हैं। फिल्म हमें विद्या के बहाने से उन ‘लेडी’ अफसरों की निजी ज़िंदगियों में भी ले जाती है जो पुरुषों के साथ डट कर खड़ी होना चाहती हैं लेकिन कभी घर तो कभी बाहर, उन्हें भेदभाव झेलना ही पड़ता है।  ‘न्यूटन’ की समीक्षा में मैंने लिखा था कि निर्देशक अमित मसुरकर के अंदर ज़रूर कोई सुलेमानी कीड़ा है जो उन्हें लीक से हट कर फिल्में बनाने को प्रेरित करता है। इस फिल्म से अमित मेरी उस बात को एक बार फिर सही साबित करते हैं। आस्था टिकू अपनी कहानी और पटकथा से हमें जिस यथार्थ से रूबरू करवाना चाहती हैं, अमित हमें उसी वास्तविक दुनिया में ले जाते हैं। यही कारण है कि कभी यह फिल्म जंगल पर बनी किसी डॉक्यूमैंट्री का-सा अहसास देती हैं तो कभी ऐसा लगता है जैसे यह हमें किसी नेशनल पार्क में सफारी करवा रही है। कहीं-कहीं तो यह भी महसूस होता है कि डायरेक्टर ने कुछ गढ़ा नहीं बल्कि स्वाभाविक तौर पर जो हो रहा था उसे ही शूट कर लिया। राकेश हरिदास का कैमरा भी हमें यही अहसास देता है। विद्या बालन उम्दा काम करती हैं। फिल्म सबसे ज़्यादा उभरने का मौका बृजेंद्र काला को देती है और वह पूरी तन्मयता से अपने किरदार को न सिर्फ जीते हैं बल्कि इस सूखी फिल्म में कॉमिक रिलीफ भी देते हैं। नीरज कबी, विजय राज़ और शरत सक्सेना खूब जंचते हैं। इला अरुण, मुकेश प्रजापति, मुकुल चड्ढा, सत्यकाम आनंद, आराधना पारास्ते, मनोज बक्शी, अमर सिंह परिहार, संपा मंडल, एकता श्री जैसे बहुत सारे कलाकार कुछ-कुछ देर को दिखते हैं और सहज लगते हैं। एक सच यह भी है कि इस फिल्म के बहुत सारे कलाकार, एक्टर नहीं बल्कि रियल किरदार ही लगते हैं। गीत-संगीत की ज़रूरत ज़्यादा नहीं थी। जो है, सही है। कहीं-कहीं स्क्रिप्ट के तार हल्के टूटते हैं और फिल्म कुछ ज़रूरी सवालों से बचती हुई-सी भी मालूम होती है। अमेज़न पर आई इस फिल्म में ‘फिल्मीपन’ बहुत कम है। यही वजह है कि काफी देर तक यह हमें ‘सूखी-सी’ लगती है। लेकिन हौले-हौले पग धरती शेरनी जब आगे बढ़ती है तो यह हमें भी अपने साथ लिए चलती है। जो सिनेमा आपकी उंगली पकड़ ले, उसका साथ नहीं छोड़ना चाहिए।

Page 2 of 25 1 2 3 25