Monday, 24 June 2019

ओल्ड रिव्यू-रमन राघव-न काला न सफेद

-दीपक दुआ... (Featured in IMDb Critics Reviews)
मुबारक हो, अनुराग कश्यप लौट आए हैं। वही अनुराग जो जिंदगी के, इंसानी मन के और समाज के अंधेरे कोनों को दिखाने में महारथ रखते हैं।
एक साइको किलर। किसी को भी किसी भी वजह से या बेवजह मारने वाला।
एक पुलिस अफसर। नशेड़ी। कभी भी किसी को भी मारने वाला।
क्या फर्क है दोनों में? एक अपराधी है और दूसरा मकसद से मार रहा है? नहीं। यहां अपराधी और पुलिस का फर्क नहीं है। पहला खुलेआम मार रहा है, दूसरा वर्दी की आड़ में। पहले को दूसरे की तलाश है और दूसरे को पहले की। पर क्यों?

Saturday, 22 June 2019

रिव्यू-‘कबीर सिंह’-थोथा चना बाजे घना

-दीपक दुआ... (Featured in IMDb Critics Reviews)
कहानी-एक ही कॉलेज में पढ़ने वाले लड़के-लड़की में प्यार हो गया। लड़की के बाप को इनका रिश्ता पसंद नहीं। लड़की की शादी कहीं और करवा दी गई। लड़के ने खुद को शराब में डुबो लिया। फिर कुछ हुआ और लड़का सुधर गया।

देखा जाए तो कबीर सिंहकी कहानी बस इतनी ही है। लेकिन इस कहानी के चारों तरफ बहुत कुछ लपेटा गया है। इसके किरदारों के चारों तरफ भी कुछ आवरण हैं जो इसे बीते कुछ सालों में आई फिल्मों से हट करबनाते हैं। लेकिन यह हट करक्या सचमुच घिसी-पिटी लीक को तोड़ता है या फिर सिर्फ हटनेके लिए हटा गया है ताकि लोगों को इस झांसे में लेकर अपना माल बेचा जा सके कि देखिए, यह हट करवाला माल है?

Thursday, 13 June 2019

रिव्यू-रहस्य-रोमांच का खेल ‘गेम ओवर’

-दीपक दुआ... (Featured in IMDb Critics Reviews)
शहर के बाहरी पॉश इलाके की एक बड़ी कोठी में अकेली रह रही एक युवती को आधी रात को बेदर्दी से कत्ल कर दिया जाता है। हत्यारा सनकी है। वह वीडियो बनाते हुए लड़की की गर्दन को तलवार से अलग कर देता है और धड़ को जला देता है। हम अखबारों की सुर्खियां देखते हैं कि शहर में लगातार इस किस्म की वारदातें हो रही हैं। हमें लगता है कि यह फिल्म सीरियल किलिंग दिखाने वाली एक मर्डर-मिस्ट्री होगी। क्या सचमुच...?

शहर के वैसे ही इलाके की एक बड़ी कोठी में एक गार्ड और अपनी केयरटेकर के साथ रह रही युवती सपना (तापसी पन्नू) को अंधेरे से डर लगता है। उसके अतीत का एक हादसा उसे कोंच रहा है। हमें लगता है कि यह एक साइक्लॉजिकल थ्रिलर होगी। क्या सचमुच...?
सपना ने साल भर पहले अपनी कलाई पर एक टैटू बनवाया था। अक्सर उसे इस जगह पर भयंकर दर्द होता है। इस टैटू से जुड़ा एक सच सामने आता है तो सपना के साथ हम भी चौंकते हैं। हमें लगता है कि यह एक हॉरर फिल्म होगी। क्या सचमुच...?

Sunday, 9 June 2019

यात्रा-गुजरात में खुल गया भारत का जुरासिक पार्क

-दीपक दुआ...
1983 की बात है। कुछ भूवैज्ञानिकों की देखरेख में गुजरात के बालासिनोर में खनिजों की खोज के लिए खुदाई की जा रही थी। अचानक उन्हें वहां कुछ अजीब-सी चीजें मिलीं। सावधानी से खुदाई की गई तो पता चला कि वे अजीब-सी चीजें दुनिया के विशालतम जीवों डायनासोर के अवशेष थे। इतना ही नहीं यहां पर डायनासोर के करीब दस हजार अंडे भी मिले। वैज्ञानिकों का कहना है कि ये अवशेष और अंडे करीब साढ़े छह करोड़ साल पुराने हैं और एक ही जगह पर इतने सारे जीवाश्म वाला यह दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा स्थान है। और अब अच्छी खबर यह कि यहां पर एक विशाल और भव्य म्यूजियम खोला गया है जिसका उद्घाटन हाल ही में गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने किया।

अहमदाबाद से करीब सौ किलोमीटर दूर बालासिनोर कभी एक रियासत हुआ करती थी जहां यूसुफजई वंश का शासन था। लेकिन यह बात महज तीन सौ साल पुरानी है जबकि करोड़ों साल पहले यहां दुनिया के विशालतम जीवों यानी डायनासोर का शासन हुआ करता था। 1983 से 2003 के दौरान यहां हुई खुदाई में बड़ी मात्रा में कई तरह के डायनासोर के अवशेष, उनके कंकाल, हड्डियां, अंडे आदि मिले। ये अंडे बतख के अंडों से लेकर तोप के गोलों तक के साइज के हैं। यहां बालासिनोर डायनासोर फॉसिल पार्क है लेकिन दुनिया को इनके बारे में काफी कम जानकारी है। लोगों को भारत और गुजरात की इसी विशेषता के बारे में बताने के लिए ही बालासिनोर के रेयोली गांव में यह डायनासोर सूचना केंद्र और संग्रहालय खोला गया है।

करीब 25 हजार वर्ग फुट क्षेत्र में बने इस बेहद आधुनिक किस्म के म्यूजियम के बेसमेंट और भूमितल पर दस गैलरियों में डायनासोर की विभिन्न किस्मों के बारे में पोस्टर-प्रदर्शनियों और फिल्मों आदि से जानकारी दी जाती है। राजासोरस नर्मदेन्सिस नामक डायनासोर के बारे में जानकारी देने के लिए खासतौर पर एक 3-डी फिल्म का निर्माण भी किया गया है जो यहां दिखाई जाती है। इनके अलावा यहां एक 5-डी थिएटर भी है और टाइम मशीन आदि का प्रदर्शन भी किया गया है। यहां की गैलरियों में गुजरात और भारत के दूसरे हिस्सों में पाए गए डायनासोर के जीवाश्मों के बारे में बताया गया है। अलग-अलग किस्म के डायनासोरों के 40 हूबहू पुतले यहां प्रदर्शित किए गया हैं। इन पुतलों का निर्माण नामी पुरातत्वविज्ञानियों की देखरेख में उनकी बरसों की रिसर्च को आधार बना कर किया गया है। साथ ही डायनासोर किस माहौल में रहा करते थे, उसे भी यहां रचा गया है जहां पहुंच कर लगता है कि आप करोड़ों साल पीछे जुरासिक युग में पहुंचे हैं। इस म्यूजियम की देखरेख के लिए एक फॉसिल पार्क विकास सोसायटी बनाई गई है।
(दीपक दुआ फिल्म समीक्षक पत्रकार हैं। 1993 से फिल्म-पत्रकारिता में सक्रिय। मिजाज़ से घुमक्कड़। अपने ब्लॉग सिनेयात्रा डॉट कॉम (www.cineyatra.com) के अलावा विभिन्न समाचार पत्रों, पत्रिकाओं, न्यूज पोर्टल आदि के लिए नियमित लिखने वाले दीपक फिल्म क्रिटिक्स गिल्डके सदस्य हैं और रेडियो टी.वी. से भी जुड़े हुए हैं।)