Tag: मिर्ज़्या

रिव्यू-‘मिर्ज़्या’ में न वादियां न नदियां, है तो सिर्फ कोहरा

अरे गुलज़ार साहब यह आपने क्या कर दिया?राकेश ओमप्रकाश मेहरा गुलज़ार को अपना गुरु मानते हैं। दोनों की कृतियों के ...

Read more