Thursday, 4 February 2021

2020 की बेहतरीन फिल्में-किसे मिलेगा अवार्ड?

-दीपक दुआ...
देश के चुनिंदा फिल्म समीक्षकों की संस्था ‘फिल्म क्रिटिक्स गिल्ड’ हर साल की तरह इस बार भी ‘क्रिटिक्स चॉइस अवार्ड’ देने जा रही है। इस बार होने जा रहे अवार्ड्स के लिए साल
2020 में थिएटरों के अलावा ढेरों ओ.टी.टी. मंचों पर रिलीज़ हुईं फिल्मों को क्रिटिक्स की कई टीमों ने देखा और कई राउंड्स के बाद उनमें से चुनिंदा फिल्मों व उनसे जुड़े लोगों को फाइनल में जगह मिली। अब इन फिल्मों को गिल्ड के तमाम सदस्य क्रिटिक्स रैंकिंग दे रहे हैं जिनमें से सर्वश्रेष्ठ को पुरस्कृत किया जाएगा। मुमकिन है आप लोगों ने इनमें से कुछ फिल्में देखी हों। न देखी हों तो देख डालिए क्योंकि ये पिछले साल की बेहतरीन फिल्में हैं। आइए, इनके नामांकनों पर नज़र डालते हैं-
 
बैस्ट फिल्म-
इस अवार्ड के लिए 10 फिल्मों में कड़ा मुकाबला है। ये हैं-हिन्दी की ‘सर’, ‘ईब आले ऊ’, ‘भोंसले’, ‘थप्पड़’, ‘चिंटू का बर्थडे’, उर्दू की ‘विडो ऑफ साइलेंस’, मलयालम की ‘अय्यपनम कोशियम’, ‘सी यू सून’, तमिल की ‘सूराराई पोट्टरू’ और बांग्ला की ‘ताशेर घॉर’।
 
बैस्ट डायरेक्टर-
इस खिताब के लिए नामित हुए पांच लोगों में ‘सर’ (हिन्दी) की डायरेक्टर रोहेना गेरा, ‘ईब आले ऊ’ (हिन्दी) के प्रतीक वत्स, ‘अय्यपनम कोशियम’ (मलयालम) के साची, भोंसले (हिन्दी) के देवाशीष मखीजा और ‘थप्पड़’ (हिन्दी) के निर्देशक अनुभव सिन्हा के बीच टक्कर हो रही है।
 
बैस्ट एक्टर-
इस वर्ग में जिन पांच अभिनेताओं को नामांकित किया गया है वे हैं-हिन्दी की ‘भोंसले’ के मनोज वाजपेयी, हिन्दी की ‘ईब आले ऊ’ के शार्दुल भारद्वाज, मलयालम की ‘अय्यपनम कोशियम’ के बिजु मैनन, मलयालम की ही ‘ट्रांस’ के फहाद फासिल और हिन्दी की ‘सीरियस मैन’ के नवाजुद्दीन सिद्दिकी।
 
बैस्ट एक्ट्रैस-
इस अवार्ड के लिए हिन्दी की ‘सर’ की तिलोत्तमा शोम, हिन्दी की ‘थप्पड़’ की तापसी पन्नू, बांग्ला की ‘ताशेर घॉर’ की स्वास्तिका मुखर्जी, तमिल की का पै राणासिंहम’ की ऐश्वर्या राजेश और उर्दू की ‘विडो ऑफ साइलेंस’ की शिल्पी मारवाह के बीच भिड़ंत हो रही है।
 
बैस्ट सपोर्टिंग एक्टर-
इस पुरस्कार के लिए जिन पांच अभिनेताओं को फाइनल में जगह मिली है वे हैं-‘गुंजन सक्सेना-द कारगिल गर्ल’ (हिन्दी) के लिए पंकज त्रिपाठी, ‘अय्यपनम कोशियम’ (मलयालम) के लिए अनिल नेदुमंगड़, ‘पावा कथईगल’ (तमिल) के लिए प्रकाश राज और ‘लूडो’ (हिन्दी) के लिए राजकुमार राव व इसी फिल्म के लिए पंकज त्रिपाठी।
 
बैस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रैस-
थप्पड़’ (हिन्दी) की गीतिका विद्या ओहल्यान, ‘पावा कथईगल’ (तमिल) की सई पल्लवी, ‘सीरियस मैन’ (हिन्दी) की इंदिरा तिवारी, ‘अय्यपनम कोशियम’ (मलयालम) की गौरी नंदा, ‘वराने अवश्यमुंड’ (मलयालम) के लिए उर्वशी के बीच इस अवार्ड को पाने के लिए मुकाबला होगा।
 
बैस्ट राईटिंग-
जिन पांच फिल्मों के लेखक इस अवार्ड के लिए आपस में टकरा रहे हैं, वे हैं-हिन्दी की ‘चिंटू का बर्थडे’ के देवांशु सिंह और सत्यांशु सिंह, तमिल की ‘सूराराई पोट्टरू’ की सुधा कोंगारा और शालिनी उषा देवी, मलयालम की ‘अय्यपनम कोशियम’ के साची, हिन्दी की ‘भोंसले’ के देवाशीष मखीजा, मिराट त्रिवेदी और शरण्या राजगोपाल व हिन्दी की ‘थप्पड़’ को लिखने वाले अनुभव सिन्हा और मृणमयी लागू।
 
बैस्ट सिनेमैटोग्राफी-
जिन पांच फिल्मों के कैमरावर्क को सबसे ज़्यादा सराहा गया और उनके डायरेक्टर ऑफ फोटोग्राफी को इस वर्ग में नामांकन मिला, वे हैं-हिन्दी की ‘बुलबुल’ के सिद्धार्थ दीवान, हिन्दी की ‘लूडो’ के अनुराग बसु व राजेश शुक्ला, तमिल की ‘अंधाघारम’ के लिए ए.एम. एडविन सेके, तमिल की ‘सूराराई पोट्टरू’ के निकेत बोमीरेड्डी व तमिल की ही ‘साइको’ के तनवीर मीर।
 
बैस्ट एडिटिंग-
जिन पांच फिल्मों को बेहद कसी हुई मान कर इस वर्ग में नामित किया गया उनके संपादकों के नाम हैं-आनंद सुबाया ‘लूटकेस’ (हिन्दी), महेश नारायणन ‘सी यू सून’ (मलयालम), सतीश सूर्या ‘सूराराई पोट्टरू’ (तमिल), रंजन अब्राहम ‘अय्यपनम कोशियम’ (मलयालम) और रामेश्वर एस. भगत ‘बुलबुल’ (हिन्दी)।
 
एक विशेष पुरस्कार भी-
इन तमाम पुरस्कारों के अलावा फिल्म क्रिटिक्स गिल्ड किसी एक फिल्म को जेंडर सेंसिटिविटी अवार्ड से भी सम्मानित करती है। इस साल इस अवार्ड के लिए जो पांच फिल्में नामित हुई हैं, उनके नाम हैं-बांग्ला की ‘ताशेर घॉर’, हिन्दी की ‘थप्पड़’ व ‘गुंजन सक्सेना-द कारगिल गर्ल’ और तमिल की ‘सेतुम अईरम पोन’ व ‘का पै राणासिंहम’।
 
बहुत जल्द इन पुरस्कारों का वितरण होगा और वह पूरा समारोह ऑनलाइन दिखाया जाएगा।
(
दीपक दुआ फिल्म समीक्षक पत्रकार हैं। 1993 से फिल्म-पत्रकारिता में सक्रिय। मिजाज़ से घुमक्कड़। अपने ब्लॉग सिनेयात्रा डॉट कॉम (www.cineyatra.com) के अलावा विभिन्न समाचार पत्रों, पत्रिकाओं, न्यूज पोर्टल आदि के लिए नियमित लिखने वाले दीपक फिल्म क्रिटिक्स गिल्डके सदस्य हैं और रेडियो टी.वी. से भी जुड़े हुए हैं।)

No comments:

Post a comment